वीर चक्र (VIR CHAKRA)

मेडलः गोलाकार और स्टैण्डर्ड सिल्वर निर्मित है और इसके अग्रभाग पर पांच कोनों वाला उभरा हुआ तारा उत्कीर्ण किया गया है जिसके कोने गोलाकार किनारों को छू रहे हैं । इसके केंद्र भाग में राज्य का प्रतीक (ध्येय सहित) उत्कीर्ण है जो उभरा हुआ है । तारा पॉलिश किया हुआ है और केन्द्र भाग स्वर्ण-कलई में है । इसके पश्च भाग पर हिन्दी और अंग्रेजी शब्दों के बीच में दो कमल के फूलों के साथ हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में वीर चक्र उत्कीर्ण किया गया है । इसकी फिटिंग घुमाऊ उभारयुक्त है ।

फीता: फीता आधा नीला रंग और आधा नारंगी रंग का है ।

बारः यदि कोई चक्र प्राप्तकर्ता पुनः ऐसी ही बहादुरी का कार्य करता है जो उसे चक्र प्राप्त करने हेतु पात्र बनाता है तो आगे ऐसा बहादुरी का कार्य किसी बार द्वारा उस फीता / पट्टी में जोड़े जाने के लिए रिकार्ड किया जाएगा जिसके द्वारा चक्र संलग्न हो जाता है । ऐसा कोई बार अथवा बार्स मरणोपरान्त भी प्रदान किया जा सकता है । प्रदत्त प्रत्येक बार के लिए, लघुचित्र में “चक्र” की प्रतिकृति, इसे अकेले पहनते समय फीते / पट्टी में सम्मिलित की जाएगी ।